दर्द


वो एक शहर था, वो एक गली थी,
जिसमें  गुम मेरी हंसी थी,
इधर उधर ढूंढा बहुत, मगर न मिलना था न मिली वो
परेशां होकर, एक खाका खींचा,
और लबों पे चस्पा कर लिया,
लरजते लबों को सबने देखा,
दिल के दर्द को दबाते हुए लरजे थे ये न कोई देख पाया।

Comments

Popular posts from this blog

मुहब्बत कुछ यूं निभाई

आओ अजनबी बन जायें