ज़िन्दगी बहुत खूबसूरत है 
लेकिन बदलियाँ हैं के थमती नहीं 
कितना भागती हूँ धूप के पीछे 
लेकिन शामें हैं के ढलती नहीं 
डरती नहीं मैं किसी भी अन्जाम से
लेकिन मुहब्बत है के सुकूं देती नहीं 

Comments

Popular posts from this blog

मुहब्बत कुछ यूं निभाई

आओ अजनबी बन जायें

दर्द